पंजाब चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की हालत खस्ता है. इसके इशारे पार्टी खुद ही दिए जा रही है. लगता है पंजाब में वो ज़हनी तौर पर तैयार है नाकामयाबी देखने के लिए. तभी तो रोज़ाना कोई ऐसा बयान आ रहा है जिससे पार्टी की हताशा ज़ाहिर हो रही है. ऐसी ही एक बात आज पंजाब में भाजपा के स्टार प्रचारक के तौर पर प्रचार करने गए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कही. उन्होंने रैली में आई जनता से कहा कि उन्हें वोट नहीं देना तो ना दें लेकिन जूते ना फेंके.

गृहमंत्री की आज अबोहर में रैली थी. मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल पर जूता फेंके जाने की घटना की वो निंदा कर रहे थे. राजनाथ सिंह ने कहा, “आपको वोट नहीं देना तो मत दीजिए, लेकिन क्या आप उनपे लाठी चलाएंगे, जूते फेंकेंगे?”
आगे बोलते हुए उन्होंने राज्य में ड्रग्स की समस्या का ठीकरा पाकिस्तान के सर फोड़ा है. पाकिस्तान के लिए चेतावनी जारी करते हुए उन्होंने कहा, “पाक यहां ड्रग्स भेजने की कोशिशों में जुटा रहता है. मैं गृहमंत्री के तौर पर आपको यकीन दिलाता हूं कि मैं उसकी खाट खड़ी कर दूंगा.”

अपनी इस रैली के दौरान राजनाथ सिंह ने एक और दिलचस्प बात बोली है. उन्होंने बातों-बातों में आम आदमी पार्टी की बढ़ती लोकप्रियता को स्वीकार किया. उन्होंने कहा कि इस बार भाजपा-अकाली गठबंधन को आम आदमी पार्टी से बहुत कड़ी टक्कर मिल रही है. इस बयान को राजनीतिक हलके में बड़ी ही दिलचस्पी से देखा जाएगा. आम आदमी पार्टी के पंजाब में सरकार बनाने के दावों को वज़न देने का काम करता है राजनाथ सिंह का ये स्टेटमेंट.
ये पहली बार नहीं है कि भाजपा से ऐसा कोई निराशा जताता बयान आया है. दो दिन पहले अमृतसर में भाजपा मंत्री और चुनाव प्रत्याशी अनिल जोशी ने भी कहा था कि ‘नोटबंदी की सज़ा मुझे न देना. वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फैसला था’.

पंजाब में 4 फ़रवरी को वोट डलने हैं. आम आदमी पार्टी के आने से इस बार का पंजाब चुनाव बेहद दिलचस्प हो गया है. सबकी इस बात पर नज़र है कि क्या केजरीवाल कुछ करिश्मा दिखा पाएंगे? या मोदी लहर का कोई असर पंजाब में देखने मिलेगा? नोटबंदी के बाद वैसे ही भाजपा नेता क्लू-लेस हैं कि उसका उन्हें फायदा होगा या नुकसान. नोटबंदी के बाद आए पहले चुनाव में सीधे मोदी जी की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. करते हैं इंतजार 11 मार्च का. जब जनादेश का पिटारा खुलेगा और जनता का कौल पता चलेगा.

Author: Harlal

News Reporters in Rajasthan