राजस्थान भाजपा सरकार की तीन साल की उपलब्धियो का जश्न को आम आदमी पार्टी ने राज्य की जनता के साथ छलावा बताया है

जयपुर। आम आदमी पार्टी ने राज्य की भाजपा सरकार पर सवाल खड़े करते हुए कहा की राज्य की मुख्यमंत्री एवं भाजपा की सरकार के मंत्री इन दिनों राज्य के विभिन्न जिलो में अपने तीन वर्ष में हासिल की गई उपलब्धियो का जश्न मनाने के कार्यक्रम में व्यस्त है लेकिन जश्न के नाम पर उपलब्धिया गिनाने को कुछ नही है और जो उपलब्धिया मिली है वो ये है की प्रदेश की जनता नोटबंदी, बेरोजगारी, व्यापार ठप एवं किसानों कि ख़राब फसले जिस पर राज्य की जनता में सरकार के प्रति रोष है। जिससे साफ अनुमान लगाया जा सकता है की राजस्थान में राज्य सरकार की क्या स्थिति है।

आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा की मुख्यमंत्री और भाजपा की सरकार अपने “मुँह मिया मिठ्ठू” बन रही है। भाजपा मुख्यमंत्री के पास जनता को तीन साल की उपलब्धियां गिनाने के लिए कोई ठोस उपलब्धिया नही है और इसी लिए राज्य की आम जनता ने राज्य सरकार और भाजपा नेताओ के कार्यक्रमो से दूरी बना ली है,जनता भाजपा नेताओं और सीएम वसुंधरा के कार्यक्रमो का बहिस्कार कर रही है।

भाजपा सरकार की तीन साल की उपलब्धियो का जश्न राज्य की जनता के साथ छलावा है – आम आदमी पार्टी

राज्य की जनता का आरोप है यदि भाजपा सरकार ईमानदारी से अपने कार्यकाल की उपलब्धियां गिनना चाहे तो अपने चुनावी घोषणा पत्र को आधार बनाकर बिंदुवार तुलनात्मक रिपोर्ट प्रस्तुत करना चाहिए। अबतक चुनावी घोषणा में किये वादे का 70 प्रतिशत कार्य पुरे हो जाने थे परंतु वास्तविकता यह है की अधिकांश वादों पर तो अभी तक काम भी शुरू नही हुआ है।

राज्य के अधिकतर युवा बेरोजगारी की समस्या से झूझ रहा है और कह रहे है की जो 15 लाख रोजगार देने का वादा कर सत्ता में आई मुख्यमंत्री ने तीन वर्षो में अभी तक 15प्रतिशत को भी रोजगार नही दिए और इसके उल्ट हक़ मांगने वालो को ” लफंगा ” की उपमा सीकर में उपलब्धियां गिनाते वक्त जब युवाओं ने मुख्यमंत्री को उनके द्वारा चुनावी वादे को याद दिलाना चाहा तब दी है। राज्य की मुख्यमंत्री के मुख से “लफंगा” शब्द सुनकर भाजपा के कार्यकर्ता अपनी ही पार्टी से दूरी बनाने लगे है। राज्य के युवाओं में मुख्यमंत्री के प्रती रोष फेल चुका है ज़िसका खामयाजा आने वाले 2018 के चुनाओं में चुकायेगी।

जनता के करोड़ो रूपये खर्च कर मुख्यमंत्री ने रिसर्जेंट राजस्थान का आयोजन किया पर आज तक एक भी निवेशक राज्य में उधोग लगाने नही आये।

राज्य की कानून व्यवस्था भी पूरी तरह से चरमरा चुकी है और राज्य में महिला मुख्यमंत्री होने के बावजूद राज्य में महिलाएं बिलकुल भी सुरक्षित नही है। आये दिन दुष्कर्म की घटनाएं हो रही है और मुख्यमंत्री इन घटनाओ पर जरा भी ध्यान नही दे रही है रोकने में नाकाम रही है।

श्री सिसोदिया ने कहा की एक महिला होने के नाते गई सही मुख्यमंत्री को चूरू दुष्कर्म पीड़ित नाबालिग से मिलकर आना चाहिए था, परंतु मुख्यमंत्री को लिटरेचर फेस्टिवल में जाने का समय मिल गया पर उस दुष्कर्म पीड़ित बच्ची से मिलने का समय नही मिलता।

Author: Swaraj Khabar

News Reporters in Rajasthan